BIS full form? Bis का फुल फार्म क्या होता है? BIS का मतलब क्या होता है इन हिंदी में? full form of bis in hindi mein? BIS full form in hindi mein?

Bis का फुल फार्म क्या होता है इन हिंदी में? Full form of BIS in hindi? (BIS full form) 


(BIS full form - BIS ka full form kya hota hai - full form of BIS in hindi mein)
            BIS का फुल फार्म क्या होता है उसके बारे में हम यहां पर जानने वाले हैं| दोस्तों आप सभी को prdptech.com website पर स्वागत है| बहत सारे लोग को bis full form क्या होता है उसके बारे में जानकारी नहीं होता है, लेकिन कइ सारे लोग हैं जो कि BIS का फुल फार्म क्या होता है उसके बारे में जानना चाहते हैं| BIS full form एक बहत ही बडा topic है इसी लिए हर किसी को BIS फुल फार्म क्या होता है उसके बारे में जानना चाहिए|
BIS full form. BIS full form in hindi. BIS full form in hindi mein. BIS ka full form kya hota hai. Full form of BIS. Full form of BIS in hindi mein.
BIS full form in hindi mein! 

         काभि सारे ऐसे लोग होते हैं जो कि इन्टरनेट पर ढन्ढते है कि ये BIS का फुल फार्म क्या होता है, तो दोस्तों उन सभी भाइयों के लिए ये information share किया गया है| दोस्तों आगर आप BIS फुल फार्म क्या है ओर BIS का मतलब क्या होता है उसके बारे में जानना चाहते हो तो ऐसे में ये Article आपके लिए बहत ही helpful है| क्यों कि यहां पर में BIS से जुडे कइ सारे जरुरी जानकारी को share किया हूँ, जिसके बारे में हर किसी को जानना चाहिए|

BIS का full form क्या होता है? Full form of BIS in hindi mein?

----------
      Friends यहां पर हम जानने वाले हैं कि आखिर ये BIS का फुल फार्म क्या होता है ओर इसके बारे में ऐसे बहत सारे लोग हैं जो कि जानना चाहते हैं|

  • BIS full form ::-
  •      B :-   Bureau of
  •      I :-   Indian
  •      S :-   Standard
  • BIS full form : Bureau of Indian Standard 

       BIS का फुल फार्म है - Bureau of Indian Standards. ये है BIS का फुल फार्म ओर इसके बारे में हर किसी को जानना चाहिए|

BIS meaning in hindi mein? BIS का हिन्दी meaning (मतलब) क्या होता है?

---------
          दोस्तों यहां पर आपको बताया गया है कि BIS का फुल फार्म क्या होता है ओर यहां पर आपको BIS का फुल फार्म है- Bureau of Indian Standard.

  • BIS meaning in hindi ::-
  •           भारतीय मानक ब्यूरो.

         दोस्तों BIS का हिंदी मतलब होता है भारतीय मानक ब्यूरो, यानी कि BIS (Bureau of Indian Standard) को ही अपना हिन्दी भाषा में "भारतीय मानक ब्यूरो" कहा जाता है|

BIS क्या है? (Bureau of Indian Standard) BIC का मतलब क्या होता है इन हिंदी में?

---------
          दोस्तों ये एक हॉलमार्क है जिसे हम BIS बोलते हैं| ये BIS (Bureau of Indian Standard) एक code होता है जिसे बहु मूल्य धातुओं पर मोहर द्वारा लगाया जाता है| बहु मूल्य धातुओं के उपर BIS को मोहर के साथ हॉलमार्क के हिसाब से एक code लिखा जाता है| कइ सारे बहु मूल्य धातुओं होता है जैसे कि सोना, हीरा, तम्वां (gold, diamond, silver, platinum etc) इसी तरीके से ओर भी कइ तरीके का धातुओं है|

बहु मूल्य धातुओं पर हॉलमार्क चिह्न लगाने का मकसद क्या होता है?

----------
        Gold, platinum, silver जैसे बहु मूल्य धातुओं में किसी दूसरे पदार्थ का मिलावट को रोकने के लिए BIS हॉलमार्क को मोहर के साथ लगाया जाता है| आपको यहां पर बताया गया है कि BIS को एक code के रुप में लिखा जाता है| BIS हॉलमार्क चिन्ह बहु मूल्य धातुओं के मिलावट को रोकने में मदद करता है| BIS हॉलमार्क चिन्ह लगाना का मकसद एहि होता है| BIS के मदद से बहु मूल्य धातुओं ज्यादा से ज्यादा शुद्ध रहता है, BIS हॉलमार्क के जरिए किसी भी धातुओं pure शुद्ध धातु है या नहीं पाता कर सकते हैं| मान के चलो एक सोना है तो उस सोना के अन्दर कितना प्रतिशत (persantage) pure सोना है उसे इस BIS हॉलमार्क चिन्ह को मोहर के साथ लिखा जाता है, जिसके जरिए हमको पाता चलता है कि उस particular सोना के चीज में कितना प्रतिशत (persantage) pure सोना है|

BIS हॉलमार्क चिन्ह को कैसे लिखा जाता है?

---------
          दोस्तों बहु मूल्य धातुओं कितना प्रतिशत pure है उसके बारे में उस धातु के उपर BIC हॉलमार्क का एक code लिखा जाता है| भारत (India) में सोने कि शुद्धता को चिन्हट करने करने के लिए सोने को BIC हॉलमार्क के जरिए मोहर के साथ 22 कैरेट में मापा जाता है, जैसे कि सोने को हॉलमार्क code के जरिए 926 अंक लगाया जाता है, तो इसका मतलब ये है कि इस में 92.6% शुद्ध (pure) सोना है| इसी प्रकार से हर सोने में कितना प्रतिशत शुद्ध सोना है उसके हिसाब से हॉलमार्क अंक लगाया जाता है, अलग अलग प्रतिशत के लिए अलग अलग हॉलमार्क अंक लगाया जाता है|

  • जैसे कि यहां पर हम कुछ उदाहरण के साथ समझते हैं :-
  • हॉलमार्क अंक 564 है तो इस में 56.4% (प्रतिशत) शुद्ध सोना है|
  • हॉलमार्क अंक 769 है तो इस में 76.9% (प्रतिशत) शुद्ध सोना है|
  • हॉलमार्क अंक 654 है तो इस में 65.4% (प्रतिशत) शुद्ध सोना है|
  • हॉलमार्क अंक 916 है तो इस में 91.6% (प्रतिशत) शुद्ध सोना है|
  • हॉलमार्क अंक 461 है तो इस में 46.1% (प्रतिशत) शुद्ध सोना है|
  • हॉलमार्क अंक 560 है तो इस में 56% (प्रतिशत) शुद्ध सोना है|
  • हॉलमार्क अंक 1000 है तो इस में 100% (प्रतिशत) शुद्ध सोना है|
  • हॉलमार्क अंक 101 है तो इस में 10.1% (प्रतिशत) शुद्ध सोना है|
  • हॉलमार्क अंक 111 है तो इस में 11.1% (प्रतिशत) शुद्ध सोना है|
  • हॉलमार्क अंक 999 है तो इस में 99.9% (प्रतिशत) शुद्ध सोना है|

       दोस्तों किसी भी बहु मूल्य धातुओं के शुद्धता को चिन्हट करने के लिए उस धातुओं के उपर hall marking लगाना ये एक बहत ही पुरानी पद्धति (method) है| दोस्तों यहां पर में आपको एक बात बिलकुल clearly बता देना चाहता हूँ कि, धातुओं के हॉलमार्क अंक को अलग अलग देश के लिए अलग अलग तरीके से लगाया जाता है, यानी कि हॉलमार्क अंक को धातुओं के उपर लगाना सभी देश के लिए same method (पद्धति) नहीं होता है|

BIS (Bureau of Indian Standard)हॉलमार्क के कुछ फायदा क्या होता है ::-

-----------
        BIS (Bureau of Indian Standard) राष्ट्रीय अर्थव्यवस्था (Economic) को कई तरीकों से मदद करने में अपना प्रमुख भूमिका निभाता है| यहाँ पर आप नीचे देख सकते हैं कि BIS (Bureau of Indian Standard) हॉलमार्क पद्धति होने के कुछ फायदे के बारे में जानकारी दिया गया है|

  •      BIS (Bureau of Indian Standard) उपभोक्ताओं के लिए स्वास्थ्य संबंधी खतरों को कम करने काम करता है|
  •      BIS (Bureau of Indian Standard) उपभोक्ताओं के लिए सुरक्षित विश्वसनीय गुणवत्ता के सामान (product) सुनिश्चित करता है|
  •      BIS (Bureau of Indian Standard) किस्मों के प्रसार को नियंत्रित करने में मदद करता है।
  •      BIS (Bureau of Indian Standard) राष्ट्रीय अर्थव्यवस्था (Economic system) को बहत सारे तरीकों से मदद करता है|
  •      BIS (Bureau of Indian Standard) निर्यात और आयात (transporting) विकल्प को बढ़ावा देने में मदद करता है।

BIS (Bureau of Indian Standard) के मकसद क्या है?

------------

  •           अंकन और बहु मूल्य धातुओं के शुद्धता प्रमाणन से संबंधित मानकीकरण का सामंजस्यपूर्ण विकास (development) करना BIS (Bureau of Indian Standard) का एक प्रमुख उद्धेस है|
  •      BIS (Bureau of Indian Standard) धातुओं की मान्यता के लिए एक राष्ट्रीय रणनीति तैयार करना होता है और उन्हें उत्पादन और निर्यात के विकास (develop) के साथ एकीकृत करने में मदद करता है|
  •      BIS (Bureau of Indian Standard) बहु मूल्य धातुओं के मानकीकरण और गुणवत्ता (शुद्धता) नियंत्रण को बढ़ावा देने में मदद करता है|

BIS (Bureau of Indian Standard) के प्रमुख गतिविधियाँ!

------------

  •      उपभोक्ता संबंधी गतिविधियाँ योजनाएँ
  •      हॉल मार्किंग योजना
  •      विदेशी निर्माता प्रमाणन योजना
  •      प्रयोगशाला पहचान योजना
  •      उत्पाद योजनाएं
  •      उत्पाद प्रमाणन योजनाएँ
  •      मानक निर्माण योजना
  •     प्रयोगशाला मान्यता योजना

भारत (India) के अन्दर BIS (Bureau of Indian Standard) का मुख्य कार्यालय कहां पर है?

-----------
         यहां पर आपको पहले ही बाता दिया गया है की BIS का फुल फार्म क्या है ओर BIS का hindi meaning है "भारतीय मानक ब्यूरो"| तो दोस्तों यहां पर हम जानने वाले हैं कि आखिर ये BIS (Bureau of Indian Standard) भारत (India) के कौन सा जगह पर स्थापन हुआ है|

  •      BIS (Bureau of Indian Standard) भारत के New Delhi पर इसका मुख्य कार्यालय स्थापन हुआ है|
  •      BIS (Bureau of Indian Standard) के मुख्य कार्यालय के अलावा ओर भी कइ सारे जगह पर छोटे छोटे 5 small branch स्थापन हो चुका है|
  •      BIS के मुख्य कार्यालय New Delhi के अलावा और छोटे छोटे 5 साखा branch का नाम ::-
  1.      मुंबई
  2.      कोलकाता
  3.      दिल्ली
  4.      चंडीगढ़
  5.      चेन्नई

          दोस्तों ये है BIS के उन छोटे 5 साखा branch ओर इनके मुख्य कार्यालय New Delhi है| BIS भारत के मामले में काम करता है, BIS (Bureau of Indian Standard) खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्रालय के क्षेत्र में तत्वावधान के जरिए काम करता है। यह BIS (Bureau of Indian Standard) 26 November son 1986 में संसद के एक अधिनियम द्वारा 1 April son 1987 को BIS अस्तित्व में आया है ओर यह BIS (Bureau of Indian Standard) को भारतीय मानक संस्थान का उत्तराधिकार मान्यता दिया गया है|

भारतीय मानक ब्यूरो (BIS) भारत के अन्दर कब लागु हुआ था?

-------------
        दोस्तों यह (BIC) भारतीय मानक ब्यूरो अधिनियम, 1986 द्वारा New Delhi में इसका मुख्य कार्यालय स्थापित किया गया है और भारतीय मानक ब्यूरो (BIS) को December 23 son 1986 को लागू हुआ किया गया था| ग्राहक को सुरक्षा, गुणवत्ता और उत्पाद की विश्वसनीयता के क्षेत्र में यह भारतीय मानक ब्यूरो (BIS) काम करता है|

BIS (Bureau of Indian Standard) भारतीय अर्थव्यवस्था को कैसे लाभ पहुंचा रहा है?

-----------
       BIS (Bureau of Indian Standard) विश्वसनीय ओर शुद्धता वाले सामान (products) प्रदान करके भारतीय अर्थव्यवस्था को बहत ही मात्रा से लाभ पहुंचा रहा है| BIS (Bureau of Indian Standard) किस्मों के प्रसार पर नियंत्रण आदि उपभोक्ताओं और उद्योग को लाभ पहुंचाने अपना बहत ही बडा भूमिका निभा रहा है|

        BIS निर्यात और आयात को बढ़ावा देने में मदद कर रहा है, पर्यावरण की रक्षा करने में का कर रहा है, उपभोक्ताओं के लिए स्वास्थ्य संबंधी से जुड़े कइ सारे खतरों को कम करने में सहाय हो रहा है| इसके अलावा ओर भी कइ सारे मानक और प्रमाणन योजना है जो कि विभिन्न प्रकार के सार्वजनिक नीतियों का समर्थन करती है जैसे कि, उपभोक्ता संरक्षण प्रदान करना , खाद्य सुरक्षा प्रदान करना, विशेष रूप से उत्पाद सुरक्षा देना, पर्यावरण संरक्षण करने में मदद करना, भवन और निर्माण, आदि के क्षेत्रों में BIS बहत ही काम आता है| अनुरूपता मूल्यांकन के क्षेत्र में BIS प्रक्रियाओं को ज्यादा से ज्यादा सरल (आसान) और तेज बनाने की दिशा में काम कर रहा है जो कि भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए बहत हि लाभ दायक है|

          BIS भारत के ऐसे कइ सारे प्राथमिक स्थर पर काम कर रहा है, जैसे कि Make in India, Swatch Bharat Aviyan, Digital India, ऐसे ओर भी कइ सारे भारत का प्राथमिक स्थर है जहां पर BIS मानकीकरण और प्रमाणन के क्षेत्र में काम कर रहा है| BIS (Bureau of Indian Standard) भारत के राष्ट्रीय मानक निकाय है, जो कि भारत सरकार के अधीन उपभोक्ता मामलों में खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्रालय के तत्वावधान पर बहत ही अच्छा काम करता है|

क्या हम सभी उत्पादों पर BIS (Bureau of Indian Standard) प्रमाणीकरण कर सकते हैं?

-------------
दोस्तों भारत सरकार ने कुछ उत्पादों के लिए BIS (Bureau of Indian Standard) का प्रमाणीकरण को अनिवार्य कर दिया है| कुछ उत्पादों के लिए भारत सरकार लाइसेंसधारियों को उनके उत्पाद पर ISI मार्क का उपयोग करने की अनुमति देता है| भारत सरकार ने घोषणा कर दिया है कि, कुल 90 उत्पादों को BIS (Bureau of Indian Standard) हॉलमार्क प्रमाणीकरण के लिए लागू किया गया है| विदेशी manufacturers को अपने सामान (products) के उपर BIS (Bureau of Indian Standard) हॉलमार्क प्रमाणिकरन करने के लिए भी इजाजत दिया जाता है, लेकिन इसके लिए उनको एक विदेशी manufacturers को एक BIS Certificate Skim दिया जाता है|

भारतीय मानक ब्यूरो (BIC) का बर्तमान महानिदेशक कौन है!

------------
        दोस्तों New Delhi में स्थापन किया हुआ भारतीय मानक ब्यूरो मुख्य कार्यालय के बर्तमान महानिदेशक हैं - अलका पांडा| जो कि सन 2015 से भारतीय मानक ब्यूरो (BIS) के अन्दर काम करते आ रहे हैं|
         अलका पांडा ने भारतीय मानक ब्यूरो (BIS) के महानिदेशक के रुप में पद भार ग्रहण करने से पहले अलका पांडा ने ओडिशा सरकार के साथ कइ सालों तक काम किया था| अलका पांडा ने महिला ओर वाल विकास विभाग, आदिवासी विकास विभाग, कृषि विभाग, ओडिशा के मुख्य निर्वाचन अधिकारी में कइ सालों तक ओडिशा सरकार का सचिवे के रूप में कइ सारे विभिन्न क्षमताओं में सेवा की थी ओर बहत ही उच्चि स्थर पर अपना नाम को रोसन किया था|

BIS (Bureau of Indian Standard) के Licence प्राप्त करने के लिए कितना समय लगता है?

---------
       दोस्तों भारतीय मानक ब्यूरो का licence पाने के लिए कम से कम 1 महीने से लेकर 6 नहिने तक का समय लग सकता है| कोइ कोइ लोगों को सिर्फ एक महिना में ही भारतीय मानक ब्यूरो (BIS) का licence मिल जाता है और कोई कोई लोगों को 3 महिना लग जाता है और कोई कोई लोगों को 6 महिना का समय लग जाता है| BIS licence को प्राप्त करने के लिए वहां पर पूछे जाने वाले कुछ प्रश्न का उपर देना पडता है| आप आगर BIS licence लेने के लिए योग्यता हो तो आपको बहत ही कम समय में सिर्फ एक ही महिना आपको BIS का Licence दे दिया जाएगा| मान के चलो अन्दर ऐसे कुछ जानकारी कमी है तो ऐसे में आपको भारतीय मानक ब्यूरो का licence लेने के लिए 3 से लेकर 6 महीने तक का समय लग सकता है|

कोई भी manufacturers BIS (Bureau of Indian Standard) licence को लेकर के क्या करता है?

-----------
          आप सभी को बिलकुल अच्छे से पाता है कि manufacturers का काम होता है किसी भी सामान (products) को बनाना (manufacturing) करना| कोई भी manufacturers के पास आगर BIS का licence होता है तो वो लोग जो भी सामान (product) को बनाता (manufacturing) है उस सामान के उपर भारतीय मानक ब्यूरो (BIS) का हॉलमार्क चिन्ह लगा सकता है| आप सभी ने जरूर देखे होगें कि कइ सारे चीजों के उपर ISI का मार्क देनेको मिलता है| जैसे कि मोबाइल से लेकर गाडी मोटर कार, TV अपने घर का हर कोई छोटे छोटे चीज पर भी ISI का मार्क देखने को मिलता है| जो लोग भी उन चीजों को बनाते हैं या develop करते हैं उनको सरकार के तरफ से ISI का Licence दिया जाता है, जिसके बजह से उन लोग अपना बनाया हुआ सामान के उपर ISI का मार्क लगाते हैं और उन सभी manufacturers को एक license के जरिए government के तरफ से approved किया जाता है| ठीक उसी प्रकार से BIS का भी एक licence होता है जिसे manufacturers अपने बनाया हुआ product के उपर BIS हॉलमार्क चिन्ह लगा सके|

  • Note :-  आगर आपको सरकार (government) के तरफ से कोई भी भारतीय मानक ब्यूरो (BIS) का प्राप्त नहीं हुआ है ओर आप अपने बनाए हुए सामान के उपर ऐसे ही BIS का हॉलमार्क चिन्ह लगा रहे हैं तो ये भारत सरकार के खिलाफ है, इसके लिए आपको सरकार के तरफ से कढि सजा भी मिल सकती है| कहने का मतलब साफ साफ ये है कि जिसके पास भारतीय मानक ब्यूरो (BIS) का licence सिर्फ उन लोग ही अपना सामान के उपर भारतीय मानक ब्यूरो का हॉलमार्क चिन्ह लगा सकते हैं|

Conclusions ::-
(BIS full form - BIS ka full form kya hota hai in hindi mein.)

           Hello दोस्तों मेरा नाम है Pradeep Minz ओर आप सभी को prdptech.com website पर स्वागत है| यहां पर में BIS फुल फार्म क्या होता है उसके बारे में जानकारी दिया हूँ| बहत सारे लोग को BIS का फुल फार्म क्या होता है उसके बारे में पाता नहीं होता है तो ओर उन लोग ढुन्ढते हैं कि BIS full form क्या होता है तो यहां पर में उन सभी भाइयों के लिए जानकारी दिया हूँ, जो लोग BIS full form के बारे में जानना चाहते हैं| दोस्तों मुझे उमिद है कि आप सभी को BIS का फुल फार्म क्या होता है उसके बारे में बिलकुल अच्छे से पाता चल गया होगा, आगर आपके मन में फुल फार्म से जुड़े कोई भी जानकारी अधुरा रह गई है तो आप यहां पर comment कर सकते हो|

0 comments: